BREAKING

सुप्रीम कोर्ट के इन चार जजों ने उठाए चीफ जस्टिस के कामकाज पर सवाल

 नई दिल्ली,

सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों ने न्यायालय के अंदर कथित तौर पर हो रहे अनियमितताओं के पालन को लेकर सवाल उठाया है। कहा जा रहा है कि यह देश में पहली बार ऐसा हुआ है, जब वरिष्ठ जजों के किसी समूह ने किसी चीफ जस्टिस के कामकाज पर सवाल उठाए हों।

चीफ जस्टिस मिश्रा के बाद दूसरे सबसे सीनियर जज जस्टिस चेलमेश्वर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा है, अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतंत्र को नुकसान पहुंचेगा। हम नहीं चाहते कि हम पर कोई आरोप लगाए। इन जज़ों में जस्टिस जे चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ़ शामिल हैं।

 

 जस्टिस जे चेलमेश्वर

जस्टिस जे चेलमेश्वर

आंध्र प्रदेश के कृष्णा ज़िले में 23 जुलाई, 1953 को पैदा होने वाले जस्टिस जस्ती चेलमेश्वर ने आंध्र प्रदेश के कृष्णा ज़िले के रहने वाले हैं। क़ानून की पढ़ाई के चेलमेश्वर एडिशनल एडवोकेट जनरल बने। इसके बाद गुवाहाटी हाईकोर्ट में प्रधान न्यायाधीश रहने के बाद साल 2011 में वह सुप्रीम कोर्ट के जज बने।

 जस्टिस रंजन गोगोई

जस्टिस रंजन गोगोई

जस्टिस रंजन गोगोई गुवाहाटी हाईकोर्ट में लंबे समय तक वकालत करने के बाद 28 गुवाहाटी हाईकोर्ट में स्थाई जज बने। इसके बाद पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट की कमान संभाली। 2012 में वह सुप्रीम कोर्ट के जज बने।

 जस्टिस मदन भीमराव लोकुर

जस्टिस मदन भीमराव लोकुर

जस्टिस मदन भीमराव लोकुर ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से 1977 में एलएलबी की डिग्री हासिल करने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में वकालत की। लोकुर करीब 6 सालों तक केंद्र सरकार के अधिवक्ता भी रहे। बाद में वरिष्ठ वकील बने। उन्हें 2012 को सुप्रीम कोर्ट का जज नियुक्त किया गया था।

 जस्टिस कुरियन जोसेफ़

जस्टिस कुरियन जोसेफ़

जस्टिस कुरियन का जन्म केरल में हुआ था। कुरियन तिरुवनंतपुरम के लॉ एकेडमी लॉ कॉलेज से क़ानून की पढ़ाई करने के बाद केरल यूनिवर्सिटी में एकेडमिक काउंसिल के सदस्य बने। कोच्चि यूनिवर्सिटी के सीनेट मेंबर रहे। इसके बाद केरल हाई कोर्ट में एडिशनल जनरल एकवोकेट रहे।

साल 2000 में उन्हें केरल हाई कोर्ट में जज बना दिया गया। कुरियन केरल न्यायिक अकादमी के अध्यक्ष, लक्षद्वीप लीगल सर्विस अथॉरिटी के अध्यक्ष,वहिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायधीश तक का सफर तय करते हुए सुप्रीम कोर्ट में जज बने। वह 29 नवंबर, 2018 को रिटायर होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

त्रिपुरा में आज से बीजेपी की सरकार, पीएम बोले- इतिहास में दर्ज हो गया यह चुनाव, भविष्य में होती रहेगी चर्चा

अगरतला, त्रिपुरा में आज से लेफ्ट का राज खत्म हो गया और बीजेपी नेता बिप्लब ...

कांग्रेस को मुस्लिम पार्टी ठहराने में जुटी बीजेपी- सोनिया गांधी

 फाइल फोटो नई दिल्ली, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने शुक्रवार को इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में ...

इस कारण बंद हो रहा है सुपरहिट क्राइम शो ‘सावधान इंडिया’

मुंबई, अच्छी टीआरपी होने के बावजूद क्राइम शो ‘सावधान इंडिया’ को बंद करने का निर्देश ...